कुशीनगर:  कुत्ते के पेट में धंसा था हंसिया, इलाज के लिए महाराष्ट्र से आई टीम

कहते हैं न मारने वाले से बड़ा बचाने वाला होता है। इस कहावत को चरितार्थ किया महाराष्ट्र से आए पशु प्रेमियों के दल ने। कई दिनों से पेट धंसे हंसिया को लेकर घूम रहे आवारा कुत्ते की जान बचने की उम्मीद जगी है।

काले रंग के एक आवारा कुत्ते को किसी ने हंसिया मारकर जख्मी कर दिया था। हंसिया कुत्ते के पेट में घुसकर फंस गया था। शरीर में हंसिया फंसा कुत्ता कई दिन से घायल अवस्था में भटक रहा था। किसी ने इस घायल कुत्ते की फोटो सोशल मीडिया पर डाल दी।

इस पोस्ट को पढ़कर महाराष्ट्र में जानवरों की देखभाल करने वाली संस्था ‘प्यार रेस्क्यू सेंटर’ के अर्पित सिंह ठाकुर और कुणाल महले रविवार सुबह पडरौना पहुंचे। इन लोगों ने नगर पालिका अध्यक्ष विनय जायसवाल से संपर्क किया।

चेयरमैन ने अपने कुछ वालंटियर को इस टीम की मदद में लगाया। रात में नौ बजे घायल कुत्ता रेलवे स्टेशन रोड पर दिखा। टीम ने इस कुत्ते को काबू में करके शरीर मे फंसा हंसिया निकालने का प्रयास किया। खुद सफलता नहीं मिली तो शहर के पशु चिकित्सालय लेकर गए।